close this ads
Next: Ganga Dussehra [4 June] | Gayatri Jayanti [5 June]

भजन: सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो।

भजन: सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो।
सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो, चलो दर्शन पालो चल के।
करती मेहरबानीयाँ, करती मेहरबानियां॥
गुफा के अन्दर, मन्दिर के अन्दर, माँ की ज्योतां है नुरानियाँ॥

मैया की लीला, देखो पर्बत है नीला।
गरजे शेर छबीला, रंग जिसका है पीला, रंगीला।
कठिन चढाईयां, माँ तेरियां लाईआं, यह है मैया की निशानियां॥

कष्टों को हरती, मैया मंगल है करती।
मैया शेरों वाली का, दुनिया पानी है भरती, दुःख हरती।
अजब नज़ारे, माते के द्वारे, और रुत्ता मस्तानीय॥

कोढ़ी को काया, देवे निर्धन को माया।
करती आचल की छाया, भिखारी बन के जो आया।
चला चल, माँ के द्वारे, कटे संकट सारे, मिट जाए परशानियाँ॥

Hindi Version in English

sar ko jhukalo, sheravali ko manalo, chalo darshan palo chal ke.
karati meharabaniyan, karati meharabaniyan.
gupha ke andar, mandir ke andar, maan ki jyotan hai nuraniyan.

maiya ki lila, dekho parbat hai neela.
garaje sher chhabeela, rang jisaka hai peela, rangeela.
kathin chadhaiyan, maa teriyan laiyan, yah hai maiya ki nishaniyan.

kashton ko haratee, maiya mangal hai karatee.
maiya sheron vaalee ka, duniya paanee hai bharatee, duhkh haratee.
ajab nazaare, maate ke davaare, aur rutta mastaaneey.

kodhee ko kaaya, deve nirdhan ko maaya.
karatee aachal kee chhaaya, bhikhaaree ban ke jo aaya.
chala chal, maan ke dvaare, kate sankat saare, mit jae parashaaniyaan.
- npsin.in
प्रेरक कहानी: बाँके बिहारी जी का प्रेम
एक बार मैं ट्रेन से आ रहा था मेरी साथ वाली सीट पे एक वृद्ध औरत बैठी थी जो लगातार रो रही थी...
मैंने बार बार पूछा मईया क्या हुआ, मईया क्या हुआ?
प्रेरक कथा: मैं ना होता तो क्या होता ?
पर हनुमान जी, प्रभु श्रीराम से कहते है...
प्रभु, यदि मैं लंका न जाता, तो मेरे जीवन में बड़ी कमी रह जाती। विभीषण का घर जब तक मैंने नही देखा था, तब तक मुझे लगता था, कि लंका में भला सन्त कहाँ मिलेंगे...
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर
List of top Shri Krishna Pranami Dharm Temples in New Delhi, Noida, Ghaziabad...
दिल्ली के प्रसिद्ध वाल्मीकि मंदिर!
Maharishi Valmiki is considered as the first poet of Sanskrit language. Indian valmiki samaj worship him as a God. List of Bhagwan Valmiki temples of New Delhi, Noida, Ghaziabad, and Gurugram.
दिल्ली के प्रसिद्ध श्री शनिदेव मंदिर - 25 May 2017
Surydev's son Shri Shanidev governs planet Saturn, one of the member in Navgrah. Devotees pray Him on weekday Saturday.
List of top famous Shri Shanidev temples in New Delhi, Noida, Gurugram and Ghaziabad...
श्री शनि जयंती के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर - 25 May 2017
श्री शनि जयंती! सूर्य देव एवं देवी छाया के पुत्र श्री शनिदेव के अवतरण दिवस के रूप मे मनाई जाती है।
आगे देखिए दिल्ली, गाज़ियाबाद के कुछ प्रसिद्ध मंदिर जहाँ मनाई जाती है, श्री शनि जयंती!
चालीसा: श्री शनिदेव जी
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
आरती: श्री शनिदेव जी
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥जय जय..॥
मंत्र: महामृत्युंजय मंत्र, संजीवनी मंत्र
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
आरती: श्री पार्वती माँ
जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता।
अरिकुल कंटक नासनि, निज सेवक त्राता, जगजननी जगदम्बा हरिहर गुण गाता।
Bhagwan Valmiki MandirBhagwan Valmiki Mandir
Swami Raghawanand Ji Maharaj from Delhi Udasin Ashram inaugurated भगवान वाल्मीकि मंदिर (Bhagwan Valmiki Mandir) on the occasion of Valmiki Jayanti in 2015. Valmiki temple is easily accessible from Rohini East metro station.
सहारनपुर और कश्मीर की हालत
कत्ल-ओ-गारत के इस खेल को ,क्यो बढा रहे हो तुम..

दुशमन हर तरफ बैठा है ,पर खुद पर पत्थर चला रहे हो तुम...
मसखरी - Maskhari
ऐसा लग रहा है कि विजय माल्या रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर टीम के खिलाडियों का पैसा भी दबा कर भगे हैं , आईपीएल में उन बेचारों का मारे अफ़सोस के परफॉरमेंस ही बिगड़ गया 🙂
घुरपेँच - Ghurpainch
आज लोगों को कब Sorry, Excuse Me, Thank You बोलना है, पता है।
पर सामने-वाले को हिन्दी मे आप (तू नहीं) बोलना होता है, बस ये नहीं पता।
मेरा नमस्ते कहना...
X ने Y को कहा, कि मेरा प्रणाम Z को बोलना...
अतः X चाहते हैं कि Y, Z को आज एक बार और प्रणाम करें।
अर्थात Y, Z से आज, एक बार और विनम्रता पूर्वक संवाद स्थापित करें।
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
...भारत को! ये जानना ज़्यादा इम्पोर्टेंट है क्या...?
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
तलवों मे जलन को दूर करें
गुनगुने पानी मे एक चम्मच सरसों का तेल डालकर दोनो पैर दस मिनट के लिए इसमें डुबाकर रखें...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top