close this ads

चालीसा: श्री बगलामुखी माता

चालीसा: श्री बगलामुखी माता
॥दोहा॥
सिर नवाइ बगलामुखी, लिखूं चालीसा आज॥
कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज॥

॥चौपाई॥
जय जय जय श्री बगला माता। आदिशक्ति सब जग की त्राता॥
बगला सम तब आनन माता। एहि ते भयउ नाम विख्याता॥
शशि ललाट कुण्डल छवि न्यारी। असतुति करहिं देव नर-नारी॥
पीतवसन तन पर तव राजै। हाथहिं मुद्गर गदा विराजै॥

तीन नयन गल चम्पक माला। अमित तेज प्रकटत है भाला॥
रत्न-जटित सिंहासन सोहै।शोभा निरखि सकल जन मोहै॥
आसन पीतवर्ण महारानी। भक्तन की तुम हो वरदानी॥
पीताभूषण पीतहिं चन्दन। सुर नर नाग करत सब वन्दन॥

एहि विधि ध्यान हृदय में राखै। वेद पुराण संत अस भाखै॥
अब पूजा विधि करौं प्रकाशा। जाके किये होत दुख-नाशा॥
प्रथमहिं पीत ध्वजा फहरावै। पीतवसन देवी पहिरावै॥
कुंकुम अक्षत मोदक बेसन। अबिर गुलाल सुपारी चन्दन॥

माल्य हरिद्रा अरु फल पाना। सबहिं चढ़इ धरै उर ध्याना॥
धूप दीप कर्पूर की बाती। प्रेम-सहित तब करै आरती॥
अस्तुति करै हाथ दोउ जोरे। पुरवहु मातु मनोरथ मोरे॥
मातु भगति तब सब सुख खानी। करहुं कृपा मोपर जनजानी॥

त्रिविध ताप सब दुख नशावहु। तिमिर मिटाकर ज्ञान बढ़ावहु॥
बार-बार मैं बिनवहुं तोहीं। अविरल भगति ज्ञान दो मोहीं॥
पूजनांत में हवन करावै। सा नर मनवांछित फल पावै॥
सर्षप होम करै जो कोई। ताके वश सचराचर होई॥

तिल तण्डुल संग क्षीर मिरावै। भक्ति प्रेम से हवन करावै॥
दुख दरिद्र व्यापै नहिं सोई। निश्चय सुख-सम्पत्ति सब होई॥
फूल अशोक हवन जो करई। ताके गृह सुख-सम्पत्ति भरई॥
फल सेमर का होम करीजै। निश्चय वाको रिपु सब छीजै॥

गुग्गुल घृत होमै जो कोई। तेहि के वश में राजा होई॥
गुग्गुल तिल संग होम करावै। ताको सकल बंध कट जावै॥
बीलाक्षर का पाठ जो करहीं। बीज मंत्र तुम्हरो उच्चरहीं॥
एक मास निशि जो कर जापा। तेहि कर मिटत सकल संतापा॥

घर की शुद्ध भूमि जहं होई। साध्का जाप करै तहं सोई॥
सेइ इच्छित फल निश्चय पावै। यामै नहिं कदु संशय लावै॥
अथवा तीर नदी के जाई। साधक जाप करै मन लाई॥
दस सहस्र जप करै जो कोई। सक काज तेहि कर सिधि होई॥

जाप करै जो लक्षहिं बारा। ताकर होय सुयशविस्तारा॥
जो तव नाम जपै मन लाई। अल्पकाल महं रिपुहिं नसाई॥
सप्तरात्रि जो पापहिं नामा। वाको पूरन हो सब कामा॥
नव दिन जाप करे जो कोई। व्याधि रहित ताकर तन होई॥

ध्यान करै जो बन्ध्या नारी। पावै पुत्रादिक फल चारी॥
प्रातः सायं अरु मध्याना। धरे ध्यान होवैकल्याना॥
कहं लगि महिमा कहौं तिहारी। नाम सदा शुभ मंगलकारी॥
पाठ करै जो नित्या चालीसा।। तेहि पर कृपा करहिं गौरीशा॥

॥दोहा॥
सन्तशरण को तनय हूं, कुलपति मिश्र सुनाम।
हरिद्वार मण्डल बसूं , धाम हरिपुर ग्राम॥
उन्नीस सौ पिचानबे सन् की, श्रावण शुक्ला मास।
चालीसा रचना कियौ, तव चरणन को दास॥
- npsin.in
प्रेरक कहानी: वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!
वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!! मुझ पर इतनी कृपा की या खुद श्रीमद्भागवत से इतना प्रेम करती हो कि रोज़ मुझ से श्लोक सुनने मे तुमको भी आनंद आता है।
चालीसा: श्री बगलामुखी माता
सिर नवाइ बगलामुखी, लिखूं चालीसा आज॥
कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज॥
दिल्ली मे कहाँ करें माँ बगलामुखी की पूजा?
The Baglamukhi Jayanti puja can be done in morning or night. She is also known as Pitambara, everything should be yellow during puja.
दिल्ली मे कहाँ मनारहे? जगन्नाथ रथ यात्रा 25 जून 2017
बहु प्रतीक्षित जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव को दिल्ली वाले कहाँ-कहाँ माना रहे हैं। [रविवार, 25 जून 2017]
दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, गुरूग्राम और फरीदाबाद के प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर:
प्रेरक कहानी: सुकर्म का फल सूद सहित मिलता है।
इंसान यदि सुकर्म करे तो उसका फल सूद सहित मिलता है, और दुष्कर्म करे तो सूद सहित भोगना पड़ता है।
प्रेरक कहानी: सभी के कर्म एक समान नहीं हैं।
समाज में कभी एकरूपता नहीं आ सकती, क्योंकि हमारे कर्म कभी भी एक समान नहीं हो सकते। और जिस दिन ऐसा हो गया उस दिन समाज-संसार की सारी विषमतायें समाप्त हो जायेंगी।...
कथा: हनुमान गाथा
हनुमान गाथा के विस्तार पूर्वक चार चरणों मे - हनुमान जन्म, बाल हनुमान, श्री राम मिलन, लंका आगमन, सीता की खोज
प्रेरक कहानी: रमणीय टटिया स्थान, वृंदावन
स्थान: श्री रंग जी मंदिर के दाहिने हाथ यमुना जी के जाने वाली पक्की सड़क के आखिर में ही यह रमणीय टटिया स्थान है। विशाल भूखंड पर फैला हुआ है...
प्रेरक कहानी: आत्मारामी ब्रह्मवेत्ता महापुरुष जगत को तीर्थरूप बना देते हैं।
आत्मारामी ब्रह्मवेत्ता महापुरुष जगत को तीर्थरूप बना देते हैं। अपनी दृष्टि से, संकल्प से, संग से जन-साधारण को उन्नत कर देते हैं। ऐसे पुरुष जहाँ ठहरते हैं, उस जगह को भी तीर्थ बना देते हैं। जैन धर्म ने ऐसे पुरुषों को तीर्थंकर (तीर्थ बनाने वाले) कहा है।
प्रेरक कहानी: जो मुझ से प्रेम रखता है, जो सर्व-शक्तिशाली है
मैंने श्राप कभी नहीं दीया, लेकिन कोई है जो मुझ से प्रेम रखता है! और वह इतना शक्तिशाली है कि दुनिया का बड़े से बड़ा राजा भी उसकी लाठी से डरता है...
Shri Deshu Mata TempleShri Deshu Mata Temple
श्री देशु माता मंदिर (Shri Deshu Mata Temple) is in Kufri and it is on 3300 metres above the sea level. The road to Deshu mata temple is bifurcated from kufri on the way to Fagu.
मसखरी - Maskhari
राष्ट्रपति के लिए तो मायावती जी की दावेदारी भी कहीं से कमजोर नहीं है, आजकल जैसी योग्यता खोजी जा रही है, वो सभी योग्यताओं से परिपूर्ण हैं और अब तो सक्रिय राजनीति से भी दूर होने की कगार पर हैंl
योग दिवस स्पेशल: योग गुरु इंडिया
भारतीय योग की जो सरिता बही तो फिर
सारे विश्ववासी स्नान-ध्यान करने लगे... [yoga day special]
गुरुग्राम! शहरों का नया नज़रिया...
मैं: भाई कैसे हो, और क्या हाल हैं फ़िरोज़ाबाद के?
दोस्त: वडिया, खूब बारिश हो रही है फ़िरोज़ाबाद में...
हाय रे बारिश, वाह रे बारिश!
अगर बारिश हो गई तो, व्यवस्था खराब,
और अगर बारिश नहीं हुई, अर्थ-व्यवस्था खराब :(
घुरपेँच - Ghurpainch
अगर 15 जून तक यू.पी. के सारे गड्ढे भर जाने थे?
फिर जो अब पानी से भरे हैं... उनको स्टेट वॉटर रिज़र्व घोषित कर देना चाहिए
Dengue
Dengue is a viral mosquito-borne type disease that has extent all over India and most of the Asia pacific and Latin America regions located.
Parsley Seed (अजवायन) Protect from Chronic Diseases
सर्दी जुकाम मे, बंद नाक होने की स्थति मे, अजवाइन दरदरा पीस कर बारीक कपड़े मे बाँध लें, इसे सूंघने से नाक खुल जाएगी।...
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से...
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था। प्राचीनकाल में हमारे ऋषि महापुरुष वर्षों ज्ञान मुद्रा में बैठ कर ध्यान किया करते थे जिस कारन उनका ज्ञान सर्वत्र पूजनीय है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top