close this ads

Famous and Popular Temples in Brajbhoomi

ब्रजभूमि (Brajbhoomi) or ब्रिजभूमि (Brijbhoomi) is the region related to childhood activities of Lord Krishna. Meaning of Brajbhoomi is a place (Bhoomi) enriched with prosperity of crop and cattles (Braj). Now a days, this region is center of high volume spiritual and cultural activities.
1/9 Sri Sri Krishna Balaram Mandir @Bhaktivedanta Swami Marg Raman Reti, Vrindavan Mathura Uttar Pradesh - 281121 Sri Sri Krishna Balaram Mandir
A holy place श्री श्री कृष्ण बलराम मंदिर (Sri Sri Krishna Balaram Mandir) having 24 hour kirtana and center of cultural and vedic education, also known as ISKCON Vrindavan.
2/9 Shri Krishna Pranami Paramdham @Gaushala Nagar, Vrindavan Mathura, Uttar Pradesh - 281121 Shri Krishna Pranami Paramdham
श्री कृष्ण प्रणामी परमधाम (Shri Krishna Pranami Paramdham) is multi story holy project of Shri Krishna Pranami Jan Kalyan Trust, Bhiwani popularly known as Kanch Ka Mandir (काँच का मंदिर, Glass Temple).
3/9 Shri Radha Madan Mohan Mandir @Bankebihari Colony, Vrindavan Mathura, Uttar Pradesh - 281121 Shri Radha Madan Mohan Mandir
श्री राधा मदन मोहन मंदिर (Shri Radha Madan Mohan Mandir) is one of the oldest temple in Vrindavan with main deity as Madana Mohan, Radha Rani and Shakhi Lalita.
4/9 Shri Yashoda Nand Ji Mandir @Nandgaon, Uttar Pradesh - 281405 Shri Yashoda Nand Ji Mandir
On the top of Nandishwar hill, श्री यशोदा नन्द जी मंदिर (Shri Yashoda Nand Ji Mandir) is dedicated to father and mother of Lord Shri Krishna and Dau Ji.
5/9 Leeladham @Mathura Road Vrindavan, Uttar Pradesh - 281121 Leeladham
To motivate people towards the loving Leelasthli of Shri Krishna a magnificent temple लीलाधाम (Leeladham) was established in Vrindavan. Nine stories, 221 feet high, white marbled temple was inaugurated in 1969 by Srimad Lilanand Thakur(Pagalbaba), therefore also called as Pagalbaba Mandir (पागलबाबा मंदिर).
6/9 Prem Mandir @Raman Reti, Vrindavan District Mathura, Uttar Pradesh - 281121 Prem Mandir
Celebrating Happy 5th Anniversary on 22 February 2017. प्रेम मंदिर (Prem Mandir) is a monument of God`s love. This devotional centre will serve all who come in search of God`s love, through knowledge and the practical experience of devotion.
7/9 Shri Radha Rani Mandir @Barsana Mathura, Uttar Pradesh - 281405 Shri Radha Rani Mandir
श्री राधा रानी मंदिर (Shri Radha Rani Mandir) is the first temple of Shrimati Radha Rani `the godess of Love` on the top of Bhanugarh hills. Barsana is her birth place, people call her Ladliji and Shriji therefore also known as Shriji Temple or Laadli Sarkar Mahal.
8/9 Sri Rangji Mandir @Goda Vihar, Vrindavan Mathura, Uttar Pradesh - 281121 Sri Rangji Mandir
श्री रंगजी मंदिर (Sri Rangji Mandir) inspiration architecture of Sri Varadaraja Temple, Kanchipuram. The mix efforts of south and north Indian temple architecture.
9/9 Shri Krishna Janmabhoomi @Janam Bhumi Mathura, Uttar Pradesh - 281001 Shri Krishna Janmabhoomi
श्री कृष्ण जन्मभूमि (Shri Krishna Janmabhoomi) is birth place Lord Shri Krishna, a prison house of the king Kansa.
- npsin.in
मंत्र: महामृत्युंजय मंत्र, संजीवनी मंत्र
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
आरती: श्री पार्वती माँ
जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता।
अरिकुल कंटक नासनि, निज सेवक त्राता, जगजननी जगदम्बा हरिहर गुण गाता।
श्री शनि जयंती के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर - 25 May 2017
श्री शनि जयंती! सूर्य देव एवं देवी छाया के पुत्र श्री शनिदेव के अवतरण दिवस के रूप मे मनाई जाती है।
आगे देखिए दिल्ली, गाज़ियाबाद के कुछ प्रसिद्ध मंदिर जहाँ मनाई जाती है, श्री शनि जयंती!
आरती: श्री शनिदेव जी
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥जय जय..॥
चालीसा: श्री शनिदेव जी
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
आरती: श्री महावीर भगवान 3 | जय सन्मति देवा
जय सन्मति देवा, प्रभु जय सन्मति देवा।
वर्द्धमान महावीर वीर अति, जय संकट छेवा॥ ऊँ जय सन्मति देवा ॥
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु 2
ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभो।
जगनायक सुखदायक, अति गम्भीर प्रभो॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु!
ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभु।
कुण्डलपुर अवतारी, चांदनपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभु॥
भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया। मेरे राम ॥
मंत्र: णमोकार महामंत्र
णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आयरियाणं, णमो उवज्झायाणं, णमो लोए सव्व साहूणं।
एसोपंचणमोक्कारो, सव्वपावप्पणासणो। मंगला णं च सव्वेसिं, पडमम हवई मंगलं।
Chhatarpur MandirChhatarpur Mandir
छत्तरपुर मंदिर (Chhatarpur Mandir) a group of temples like Maa Katyayani Mandir, Shri Laxmi Vinayak Mandir, Baba Jharpeer Mandir, Markandeya Mandapam, 101 feet Hanuman Murti. Temple popularly known as श्री आद्या कत्यायानी शक्ति पीठ मंदिर (Shri Adya Katyayani Shaktipeeth Mandir)
मसखरी - Maskhari
ऐसा लग रहा है कि विजय माल्या रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर टीम के खिलाडियों का पैसा भी दबा कर भगे हैं , आईपीएल में उन बेचारों का मारे अफ़सोस के परफॉरमेंस ही बिगड़ गया 🙂
घुरपेँच - Ghurpainch
आज लोगों को कब Sorry, Excuse Me, Thank You बोलना है, पता है।
पर सामने-वाले को हिन्दी मे आप (तू नहीं) बोलना होता है, बस ये नहीं पता।
मेरा नमस्ते कहना...
X ने Y को कहा, कि मेरा प्रणाम Z को बोलना...
अतः X चाहते हैं कि Y, Z को आज एक बार और प्रणाम करें।
अर्थात Y, Z से आज, एक बार और विनम्रता पूर्वक संवाद स्थापित करें।
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
...भारत को! ये जानना ज़्यादा इम्पोर्टेंट है क्या...?
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही...
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही, हमें फ़र्क़ था माझे पर नाज था!!
डूवी मेरी कश्ती पतवार के हाथो ही, हमें फ़र्क़ था पतवार पर नाज था!!
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
तलवों मे जलन को दूर करें
गुनगुने पानी मे एक चम्मच सरसों का तेल डालकर दोनो पैर दस मिनट के लिए इसमें डुबाकर रखें...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top