close this ads

महावीर जयंती पर प्रसिद्ध जैन मंदिर!

महावीर जयंती पर प्रसिद्ध जैन मंदिर!
Top message of Jainism "Ahiṃsa Paramo Dharma". List of leading Jain temples of New Delhi, Ghaziabad, Firozabad, Vahelna-Muzaffarnagar, Shouripur-Bateshwar and Sasni-Hathras:
1/8 Shri Digambar Jain Lal Mandir @Chandni Chowk, Delhi 110006 Shri Digambar Jain Lal Mandir
श्री दिगंबर जैन लाल मंदिर (Shri Digambar Jain Lal Mandir) dedicated to 23rd Tirthankara Parashvanath, the oldest Jain temple in Delhi popularly also known as Lal Mandir (Red Temple). A manastambha column stands in front of the temple. The main devotional area of the temple is on the first floor.
2/8 Shri Parshwanath Digambar Jain Mandir @Kavi Nagar, Ghaziabad, Uttar Pradesh - 201001 Shri Parshwanath Digambar Jain Mandir
Kavi Nagar Jain Mandir, near Arya Samaj Mandir dedicated to 23td jain Tirthankar Bhagwan Parshwanath Ji therefore called श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर (Shri Parshwanath Digambar Jain Mandir).
3/8 Shri Digamber Jain Mandir @10/1 Bhagwan Mahavir Marg, Sector - 10 Vasundhara, Ghaziabad Uttar Pradesh- 201012 Shri Digamber Jain Mandir
The 41 inches high Golden Coloured metallic diety of Bhagwan Mahaveer Ji is placed on a beautiful platform(बेदी, bedi) made of Makrana stone in श्री दिगंबर जैन मंदिर (Shri Digamber Jain Mandir) Vasundhara.
4/8 Parshvnath Digamber Jain Atishye Chetra @Vahelna Muzaffarnagar, Uttar Pradesh - 251003 Parshvnath Digamber Jain Atishye Chetra
पार्श्वनाथ दिगंबर जैन आतिशये क्षेत्र (Parshvnath Digamber Jain Atishye Chetra) also called Vahelna Jain Mandir dedicated to 23rd Tirthankar Bhagwan Parshwanath of Jainism. 31 Feet Prabhu Parshvnath Khadgasan Pratima installed by Shri 108 Nayansagar Ji Muniraj on Feb 2011.
5/8 Shri 1008 Chandraprabha Digambar Jain Mandir @Sadar Baazar Near Khirki, Purani Mandi, Firozabad - 283203 Shri 1008 Chandraprabha Digambar Jain Mandir
श्री १००८ चंद्रप्रभ दिगंबर जैन मंदिर (Shri 1008 Chandraprabha Digambar Jain Mandir), near ghanta ghar via famous place Khidki. 1.5 feet height Chandraprabha statue originated from village Chandrabada near river Yamuna.
6/8 Shri Mahavir Jinalaya @Agra Gate, Jain Nagar, Firozabad, Uttar Pradesh - 283203 Shri Mahavir Jinalaya
Famous spiritual place, tourist place and popular crowded landmark of firozabad श्री महावीर जिनालय (Shri Mahavir Jinalaya), popularly called Firozabad Jain Mandir.
7/8 Shri Shauripur Bateshwar Digambar Jain Siddh Kshetra @Shauripur, Post - Bateshwar, Dist - Agra, Uttar Pradesh - 283104 Shri Shauripur Bateshwar Digambar Jain Siddh Kshetra
श्री शौरीपुर बटेश्वर दिगंबर जैन सिद्ध क्षेत्र (Shri Shauripur Bateshwar Digambar Jain Siddh Kshetra) dedicated to Shri Neminath Bhagwan, kalyanaka (birth) place of 22nd Teerthankara Bhagwan Neminath (Arishtanemi). Bhagawan Arishtanemi, in his earlier incarnation, was Shankh, the eldest son of king Shrisen of Hastinapur. Also pronounced as Shoripur Jain Mandir or Shoripur-Bateshwar Jain Mandir
8/8 Teerthdham Mangalayatan @Aligarh-Agra Marg, Near Hanuman Chowki, Post- Sasni, Distt. Hathras Uttar Pradesh - 204216 Teerthdham Mangalayatan
तीर्थधाम मंगलायतन (Teerthdham Mangalayatan) dedicated to Second Tirthankara Bhagwan Bahubali(one with strong arms) of Jainism. Mang+al+Ayatan - `mang` means `happiness`, and the one who brings happiness in our lives (Al-Layati) is called `mangal`. Ayatan is Sanskrit for volume or place. Therefore, A place that will be instrumental in bringing happiness to our lives and ridding us from our sins is called Mangalayatan
- npsin.in
मंत्र: महामृत्युंजय मंत्र, संजीवनी मंत्र
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
आरती: श्री पार्वती माँ
जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता।
अरिकुल कंटक नासनि, निज सेवक त्राता, जगजननी जगदम्बा हरिहर गुण गाता।
श्री शनि जयंती के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध मंदिर - 25 May 2017
श्री शनि जयंती! सूर्य देव एवं देवी छाया के पुत्र श्री शनिदेव के अवतरण दिवस के रूप मे मनाई जाती है।
आगे देखिए दिल्ली, गाज़ियाबाद के कुछ प्रसिद्ध मंदिर जहाँ मनाई जाती है, श्री शनि जयंती!
आरती: श्री शनिदेव जी
जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥जय जय..॥
चालीसा: श्री शनिदेव जी
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
आरती: श्री महावीर भगवान 3 | जय सन्मति देवा
जय सन्मति देवा, प्रभु जय सन्मति देवा।
वर्द्धमान महावीर वीर अति, जय संकट छेवा॥ ऊँ जय सन्मति देवा ॥
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु 2
ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभो।
जगनायक सुखदायक, अति गम्भीर प्रभो॥ ॐ जय महावीर प्रभु॥
आरती: ॐ जय महावीर प्रभु!
ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभु।
कुण्डलपुर अवतारी, चांदनपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभु॥
भजन: सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...
जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाये तरुवर की छाया,
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है, मैं जब से शरण तेरी आया। मेरे राम ॥
मंत्र: णमोकार महामंत्र
णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आयरियाणं, णमो उवज्झायाणं, णमो लोए सव्व साहूणं।
एसोपंचणमोक्कारो, सव्वपावप्पणासणो। मंगला णं च सव्वेसिं, पडमम हवई मंगलं।
Chhatarpur MandirChhatarpur Mandir
छत्तरपुर मंदिर (Chhatarpur Mandir) a group of temples like Maa Katyayani Mandir, Shri Laxmi Vinayak Mandir, Baba Jharpeer Mandir, Markandeya Mandapam, 101 feet Hanuman Murti. Temple popularly known as श्री आद्या कत्यायानी शक्ति पीठ मंदिर (Shri Adya Katyayani Shaktipeeth Mandir)
मसखरी - Maskhari
ऐसा लग रहा है कि विजय माल्या रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर टीम के खिलाडियों का पैसा भी दबा कर भगे हैं , आईपीएल में उन बेचारों का मारे अफ़सोस के परफॉरमेंस ही बिगड़ गया 🙂
घुरपेँच - Ghurpainch
आज लोगों को कब Sorry, Excuse Me, Thank You बोलना है, पता है।
पर सामने-वाले को हिन्दी मे आप (तू नहीं) बोलना होता है, बस ये नहीं पता।
मेरा नमस्ते कहना...
X ने Y को कहा, कि मेरा प्रणाम Z को बोलना...
अतः X चाहते हैं कि Y, Z को आज एक बार और प्रणाम करें।
अर्थात Y, Z से आज, एक बार और विनम्रता पूर्वक संवाद स्थापित करें।
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
...भारत को! ये जानना ज़्यादा इम्पोर्टेंट है क्या...?
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही...
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही, हमें फ़र्क़ था माझे पर नाज था!!
डूवी मेरी कश्ती पतवार के हाथो ही, हमें फ़र्क़ था पतवार पर नाज था!!
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
तलवों मे जलन को दूर करें
गुनगुने पानी मे एक चम्मच सरसों का तेल डालकर दोनो पैर दस मिनट के लिए इसमें डुबाकर रखें...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top