close this ads

मंत्र: शिव तांडव स्तोत्रम्

मंत्र: शिव तांडव स्तोत्रम्
सार्थशिवताण्डवस्तोत्रम्
॥ श्रीगणेशाय नमः ॥

जटाटवीगलज्जलप्रवाहपावितस्थले
गलेऽवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्गतुङ्गमालिकाम्।
डमड्डमड्डमड्डमन्निनादवड्डमर्वयं
चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्॥१॥

जटाकटाहसम्भ्रमभ्रमन्निलिम्पनिर्झरी
विलोलवीचिवल्लरीविराजमानमूर्धनि।
धगद्धगद्धगज्ज्वलल्ललाटपट्टपावके
किशोरचन्द्रशेखरे रतिः प्रतिक्षणं मम॥२॥

धराधरेन्द्रनंदिनीविलासबन्धुबन्धुर
स्फुरद्दिगन्तसन्ततिप्रमोदमानमानसे।
कृपाकटाक्षधोरणीनिरुद्धदुर्धरापदि
क्वचिद्दिगम्बरे(क्वचिच्चिदम्बरे) मनो विनोदमेतु वस्तुनि॥३॥

जटाभुजङ्गपिङ्गलस्फुरत्फणामणिप्रभा
कदम्बकुङ्कुमद्रवप्रलिप्तदिग्वधूमुखे।
मदान्धसिन्धुरस्फुरत्त्वगुत्तरीयमेदुरे
मनो विनोदमद्भुतं बिभर्तु भूतभर्तरि॥४॥

सहस्रलोचनप्रभृत्यशेषलेखशेखर
प्रसूनधूलिधोरणी विधूसराङ्घ्रिपीठभूः।
भुजङ्गराजमालया निबद्धजाटजूटक
श्रियै चिराय जायतां चकोरबन्धुशेखरः ॥५॥

ललाटचत्वरज्वलद्धनञ्जयस्फुलिङ्गभा
निपीतपञ्चसायकं नमन्निलिम्पनायकम्।
सुधामयूखलेखया विराजमानशेखरं
महाकपालिसम्पदेशिरोजटालमस्तु नः॥६॥

करालभालपट्टिकाधगद्धगद्धगज्ज्वल
द्धनञ्जयाहुतीकृतप्रचण्डपञ्चसायके।
धराधरेन्द्रनन्दिनीकुचाग्रचित्रपत्रक
प्रकल्पनैकशिल्पिनि त्रिलोचने रतिर्मम॥७॥

नवीनमेघमण्डली निरुद्धदुर्धरस्फुरत्
कुहूनिशीथिनीतमः प्रबन्धबद्धकन्धरः।
निलिम्पनिर्झरीधरस्तनोतु कृत्तिसिन्धुरः
कलानिधानबन्धुरः श्रियं जगद्धुरंधरः॥८॥

प्रफुल्लनीलपङ्कजप्रपञ्चकालिमप्रभा
वलम्बिकण्ठकन्दलीरुचिप्रबद्धकन्धरम्।
स्मरच्छिदं पुरच्छिदं भवच्छिदं मखच्छिदं
गजच्छिदांधकच्छिदं तमन्तकच्छिदं भजे॥९॥

अगर्व सर्वमङ्गलाकलाकदम्बमञ्जरी
रसप्रवाहमाधुरी विजृम्भणामधुव्रतम्।
स्मरान्तकं पुरान्तकं भवान्तकं मखान्तकं
गजान्तकान्धकान्तकं तमन्तकान्तकं भजे॥१०॥

जयत्वदभ्रविभ्रमभ्रमद्भुजङ्गमश्वस
द्विनिर्गमत्क्रमस्फुरत्करालभालहव्यवाट्।
धिमिद्धिमिद्धिमिध्वनन्मृदङ्गतुङ्गमङ्गल
ध्वनिक्रमप्रवर्तित प्रचण्डताण्डवः शिवः॥११॥

दृषद्विचित्रतल्पयोर्भुजङ्गमौक्तिकस्रजोर्
गरिष्ठरत्नलोष्ठयोः सुहृद्विपक्षपक्षयोः।
तृणारविन्दचक्षुषोः प्रजामहीमहेन्द्रयोः
समं प्रव्रितिक: कदा सदाशिवं भजाम्यहम॥१२॥

कदा निलिम्पनिर्झरीनिकुञ्जकोटरे वसन्
विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरः स्थमञ्जलिं वहन्।
विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः
शिवेति मंत्रमुच्चरन् कदा सुखी भवाम्यहम्॥१३॥

निलिम्प नाथनागरी कदम्ब मौलमल्लिका-
निगुम्फनिर्भक्षरन्म धूष्णिकामनोहरः।
तनोतु नो मनोमुदं विनोदिनींमहनिशं
परिश्रय परं पदं तदङ्गजत्विषां चयः॥१४॥

प्रचण्ड वाडवानल प्रभाशुभप्रचारणी
महाष्टसिद्धिकामिनी जनावहूत जल्पना।
विमुक्त वाम लोचनो विवाहकालिकध्वनिः
शिवेति मन्त्रभूषगो जगज्जयाय जायताम्॥१५॥

इमं हि नित्यमेवमुक्तमुत्तमोत्तमं स्तवं
पठन्स्मरन्ब्रुवन्नरो विशुद्धिमेतिसंततम्।
हरे गुरौ सुभक्तिमाशु याति नान्यथा गतिं
विमोहनं हि देहिनां सुशङ्करस्य चिंतनम्॥१६॥

पूजावसानसमये दशवक्त्रगीतं
यः शम्भुपूजनपरं पठति प्रदोषे।
तस्य स्थिरां रथगजेन्द्रतुरङ्गयुक्तां
लक्ष्मीं सदैव सुमुखिं प्रददाति शम्भुः॥१७॥

इति श्रीरावण कृतम्
शिव ताण्डव स्तोत्रम्स म्पूर्णम्

Read Also:
» कब, कैसे, कहाँ मनाएँ शिवरात्रि - When, How, Where celebrates Shivratri?
» दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध शिव मंदिर - Famous Shiv Mandir of Delhi NCR
» दिल्ली और आस-पास के मंदिरों मे शिवरात्रि की धूम-धाम - Temple celebrates Shivratri in Delhi NCR
- npsin.in
भजन: राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक
राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक, तीनों लोक में छाये रही है।
भक्ति विवश एक प्रेम पुजारिन, फिर भी दीप जलाये रही है।
कृष्ण को गोकुल से राधे को, बरसाने से बुलाय रही है।
प्रेरक कहानी: सभी के कर्म एक समान नहीं हैं।
समाज में कभी एकरूपता नहीं आ सकती, क्योंकि हमारे कर्म कभी भी एक समान नहीं हो सकते। और जिस दिन ऐसा हो गया उस दिन समाज-संसार की सारी विषमतायें समाप्त हो जायेंगी।...
प्रेरक कहानी: सुकर्म का फल सूद सहित मिलता है।
इंसान यदि सुकर्म करे तो उसका फल सूद सहित मिलता है, और दुष्कर्म करे तो सूद सहित भोगना पड़ता है।
प्रेरक कहानी: वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!
वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!! मुझ पर इतनी कृपा की या खुद श्रीमद्भागवत से इतना प्रेम करती हो कि रोज़ मुझ से श्लोक सुनने मे तुमको भी आनंद आता है।
दिल्ली मे कहाँ मनारहे? जगन्नाथ रथ यात्रा 25 जून 2017
बहु प्रतीक्षित जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव को दिल्ली वाले कहाँ-कहाँ माना रहे हैं। [रविवार, 25 जून 2017]
दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, गुरूग्राम और फरीदाबाद के प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर:
प्रेरक कहानी: जैसी संगत वैसी रंगत
स्वार्थी या संग करोगे, स्वार्थी बन जाओगे।
दानी का संग करोगे, दानी बन जाओगे।
संतो, भक्तो का संग करोगे, तो प्रभु से प्रेम।
चालीसा: श्री बगलामुखी माता
सिर नवाइ बगलामुखी, लिखूं चालीसा आज॥
कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज॥
दिल्ली मे कहाँ करें माँ बगलामुखी की पूजा?
बागलामुखी जयंती पूजा सुबह या रात में की जा सकती है। इन्हें माता पीताम्बरा के रूप में भी जाना जाता है, पूजा के दौरान सब कुछ पीला होना चाहिए।
कथा: हनुमान गाथा
हनुमान गाथा के विस्तार पूर्वक चार चरणों मे - हनुमान जन्म, बाल हनुमान, श्री राम मिलन, लंका आगमन, सीता की खोज
प्रेरक कहानी: रमणीय टटिया स्थान, वृंदावन
स्थान: श्री रंग जी मंदिर के दाहिने हाथ यमुना जी के जाने वाली पक्की सड़क के आखिर में ही यह रमणीय टटिया स्थान है। विशाल भूखंड पर फैला हुआ है...
Shri Jagannath MandirShri Jagannath Mandir
श्री जगन्नाथ मंदिर (Shri Jagannath Mandir) dedicated to Bhagwan Jagannath in Sector 2 main market area, share same wall with Shri Shiv Mandir near Kaushambi metro station.
मसखरी - Maskhari
राष्ट्रपति के लिए तो मायावती जी की दावेदारी भी कहीं से कमजोर नहीं है, आजकल जैसी योग्यता खोजी जा रही है, वो सभी योग्यताओं से परिपूर्ण हैं और अब तो सक्रिय राजनीति से भी दूर होने की कगार पर हैंl
योग दिवस स्पेशल: योग गुरु इंडिया
भारतीय योग की जो सरिता बही तो फिर
सारे विश्ववासी स्नान-ध्यान करने लगे... [yoga day special]
गुरुग्राम! शहरों का नया नज़रिया...
मैं: भाई कैसे हो, और क्या हाल हैं फ़िरोज़ाबाद के?
दोस्त: वडिया, खूब बारिश हो रही है फ़िरोज़ाबाद में...
हाय रे बारिश, वाह रे बारिश!
अगर बारिश हो गई तो, व्यवस्था खराब,
और अगर बारिश नहीं हुई, अर्थ-व्यवस्था खराब :(
घुरपेँच - Ghurpainch
अगर 15 जून तक यू.पी. के सारे गड्ढे भर जाने थे?
फिर जो अब पानी से भरे हैं... उनको स्टेट वॉटर रिज़र्व घोषित कर देना चाहिए
Dengue
Dengue is a viral mosquito-borne type disease that has extent all over India and most of the Asia pacific and Latin America regions located.
Parsley Seed (अजवायन) Protect from Chronic Diseases
सर्दी जुकाम मे, बंद नाक होने की स्थति मे, अजवाइन दरदरा पीस कर बारीक कपड़े मे बाँध लें, इसे सूंघने से नाक खुल जाएगी।...
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से...
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था। प्राचीनकाल में हमारे ऋषि महापुरुष वर्षों ज्ञान मुद्रा में बैठ कर ध्यान किया करते थे जिस कारन उनका ज्ञान सर्वत्र पूजनीय है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top