close this ads

प्रेरक कहानी: विपरीत परिस्थिति में कैसा व्यवहार करे?

एक साधू अपने शिष्य के साथ नदी में स्नान कर रहे थे। तभी एक बिच्छू जल की धारा में बहता हुआ उधर आया और साधू ने उसे पानी से निकालने के लिए अपने हाथ पर लेने की कोशिश की। बिच्छू ने साधू के हाथ पर तेज डंक का प्रहार किया और साधू के हाथ से छूट कर दूर जा कर गिरा.

तभी साधू ने दोबारा उसे हाथ में लेकर बचने की कोशिश की पर बिच्छू ने एक बार फिर से तेज डंक का प्रहार किया और साधू के हाथ से छूट कर दूर जा कर गिरा। साधू ने उसे फिर बचने के लिए हाथ बढाया और
बिच्छू ने फिर से डंक मारा और यह क्रम कई बार चला और अंततः साधू ने बिच्छू को किनारे पर पहुंचा दिया। पर इस क्रम में साधू के हाथ में कम से कम ६-७ डंक लग चुके थे।

एक शिष्य जो ये सारा उपक्रम देख रहा था, बोला: महाराज जब ये बिच्छू बार बार आपको डंक मार रहा था तो फिर आपने उसे इतने डंक खाकर क्यों पानी से बाहर निकाला?

साधू बोले: बिच्छू का स्वभाव ही डंक मारने का होता है और वो अपने स्वभाव को नहीं छोड़ सकता।

शिष्य बोला: तो फिर आप तो उसको बचाना छोड़ सकते थे।

साधू बोले: जब बिच्छू जैसे प्राणी ने अपना स्वभाव नहीं छोड़ा तो फिर मैं क्यों साधू होकर अपना स्वभाव त्याग देता और बिच्छू को ना बचाता?।

कई बार हम सबके साथ भी कुछ ऐसा होता है बहुत से विपरीत स्वभाव के व्यक्तियों से हमारा सामना हो जाता है, उस परिस्थिति में वह व्यक्ति हमारे साथ कैसा भी व्यवहार करे, परन्तु हम उसके साथ वह व्यवहार ना करें जो एक साधू को नहिं करना चाहिए साधू केवल वेष धारण नहिं साधू तो भाव है।

English Version

Once upon a time there was a Sadhu doing something near a river. Suddenly he saw there that a Bichu has fallen in the water and trying to come out from water but was unable to do so. So the Sadhu come
forward to help him. So he take a stick and tried to take him out but with stick he was unable to help that Bichu.

So he finally used his hand to pull him from the water. So he put his hand under the bichu to hold him on his palm but as soon as he was able to take him out the Bichu has just cut in his fingure. The Sadhu was just shaken his hand due to pain and the Bichu again fall down in the water. Sadhu again tried to save him but the next time also the same thing happened with Sadhu. This all has gone for few times. A persons passing from there was seeing all this. He finally come to Sadhu and requested that, if the Bichu is biting you again and again and then why are you taking him out again and again. Just leave him.

The Sadhu replied that when the Bichu can't leave his basics of biting somebody how can I leave my basic of helping everybody. If he is determined to bite I am determined to save him. And after few tried the Sadhu was really able to save the Bichu from water.
- npsin.in
If you love this article please like, share or comment!
भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…
आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…
भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…
आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो!
शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको।
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।...
मंत्र: श्री गणेश - वक्रतुण्ड महाकाय
वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर!
भगवान श्रीगणेश को विघ्नहर्ता, मंगलमूर्ति, लंबोदर, व्रकतुंड आदि कई विचित्र नामों से पुकारा जाता है। दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।
आरती: श्री गणेश जी
Important Shri Ganesh aarti in Ganapati Puja:
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥...
दिल्ली मे यहाँ विराजमान हैं, श्री गणेश जी!
गणेशोत्सव के लिए दिल्ली और आस-पास के शहर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद के इन मंदिरों मे विराजमान हैं श्री गणेश जी।
प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये।
पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये।
छोड़ देवें छल कपट को, मानसिक बल दीजिये॥
विविध: आर्य समाज के नियम
ईश्वर सच्चिदानंदस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनंत, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, सर्वांतर्यामी, अजर, अमर, अभय, नित्य, पवित्र और सृष्टिकर्ता है, उसी की उपासना करने योग्य है।
प्रेरक कथा: नारायण नाम की महिमा!
संत जन आशीर्वाद देकर चले गए। समय बीता उसके पुत्र हुआ। नाम रखा नारायण। अजामिल अपने नारायण पुत्र में बहुत आशक्त था। अजामिल ने अपना सम्पूर्ण हृदय अपने बच्चे नारायण को सौंप दिया था।
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै।
श्री यशोदा का परम दुलारा, बाबा के अँखियन का तारा।...
Arya Samaj MandirArya Samaj Mandir
आर्य समाज मंदिर (Arya Samaj Mandir), punjabi Bagh is the center of vedic culture and Swami Dayanand Saraswati`s thoughts.
मसखरी - Maskhari
तीन तलाक पर रोक सुनते ही राहुल गाँधी ने मोदी जी से पूछा कि क्या सरकार उनके बारे में भी कुछ सोच रही है जो उम्र ढल जाने बाद भी कुँवारें रह गए हैं।
Bachpan to Reebok
पढ़-लिख कर हमने कार खरीदी :(
और वो...
अनपढ़ रह कर भी पेड़ लगाने चल दिए!!
Kavi Vinod Pandey Ki Kalam - 2017
खा रहें हैं जो टमाटर आजकल,दायरे में टैक्स के वो आएँगे
पी रहे हैं जो टमाटर जूस उनके, घर पे छापे जल्द मारे जायेंगे...
घुरपेँच - Ghurpainch
Q: ऑफ़स मे आपका ईशान कोण किस दिशा मे है?
A: जिस दिशा मे आपके बॉस की सीट हो, वही आपकी उत्तम दिशा है ;)
दिल्ली एन.सी.आर. में भारी वर्षा
दिल्ली मे बारिश हुई नही और टीवी, इंटरनेट, मोबाइल और रोड नेटवर्क सब जाम से जाम छलकाते मिलेंगे :)
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था।...
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है।...
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
प्राण मुद्रा
बचपन से ही चश्मा का लगना, प्राणशक्ति को बढ़ाना और शारीर को निरोग रखना प्राण मुद्रा इसके लिए रामवाण का कम करती है..
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top