close this ads
Today, Mata Brahmacharinid - माता ब्रह्मचारिणी worshiped during Shardiya Navratri 2017.

संकट मोचन हनुमानाष्टक

संकट मोचन हनुमानाष्टक
॥ संकट मोचन हनुमानाष्टक ॥
बाल समय रवि भक्षी लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारों।
ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो।
देवन आनि करी बिनती तब, छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो।
को नहीं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो ॥ को - १

बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो।
चौंकि महामुनि साप दियो तब, चाहिए कौन बिचार बिचारो।
कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के सोक निवारो ॥ को - २

अंगद के संग लेन गए सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो।
जीवत ना बचिहौ हम सो जु, बिना सुधि लाये इहाँ पगु धारो।
हेरी थके तट सिन्धु सबे तब, लाए सिया-सुधि प्राण उबारो ॥ को - ३

रावण त्रास दई सिय को सब, राक्षसी सों कही सोक निवारो।
ताहि समय हनुमान महाप्रभु, जाए महा रजनीचर मरो।
चाहत सीय असोक सों आगि सु, दै प्रभुमुद्रिका सोक निवारो ॥ को - ४

बान लाग्यो उर लछिमन के तब, प्राण तजे सूत रावन मारो।
लै गृह बैद्य सुषेन समेत, तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो।
आनि सजीवन हाथ दिए तब, लछिमन के तुम प्रान उबारो ॥ को - ५

रावन जुध अजान कियो तब, नाग कि फाँस सबै सिर डारो।
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल, मोह भयो यह संकट भारो।
आनि खगेस तबै हनुमान जु, बंधन काटि सुत्रास निवारो ॥ को - ६

बंधू समेत जबै अहिरावन, लै रघुनाथ पताल सिधारो।
देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि, देउ सबै मिलि मन्त्र विचारो।
जाये सहाए भयो तब ही, अहिरावन सैन्य समेत संहारो ॥ को - ७

काज किये बड़ देवन के तुम, बीर महाप्रभु देखि बिचारो।
कौन सो संकट मोर गरीब को, जो तुमसे नहिं जात है टारो।
बेगि हरो हनुमान महाप्रभु, जो कछु संकट होए हमारो ॥ को - ८

॥ दोहा ॥
लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।
वज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर ॥

Read Also:
» हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti
» दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर!
» श्री हनुमान जी की आरती | श्री हनुमान चालीसा | श्री बजरंग बाण पाठ | श्री बालाजी की आरती | श्री हनुमान बाहुक | श्री हनुमान साठिका
» श्री हनुमान गाथा | भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना | भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली

Hindi Version in English

॥ Sankatmochan Hanuman Ashtak ॥
Baal samai ravi bhakshi liyo tab, teenahu loka bhayo andhiyaro ।
Taahi so traas bhayo jag ko, yah sankat kaahu so jaat na taaro ।
Dewan aani kari bintee tab, chaadhi diyo ravi kasht niwaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tihaaro ॥1॥

Baali ki traas kapees basai giri, jaat mahaaprabhu panth nihaaro ।
Chownki mahaa muni saap diyo tab chahiy kaun bichaar bichaaro ।
Kai dwij roop liwaay mahaa prabhu so tum daas ke sok niwaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tiharo ॥2॥

Angad ke sang lain gaye siya, khoj kapees yah baain uchaaro ।
jeevat na bachihau hum son ju, bina sudhi laay ehaan pagu dhaaro ।
Hayri thake tatt sindhu sabaai tab laay siya-sudhi praan ubaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tiharo ॥3॥

Raavan traas dayee siya ko sab, raakshashi so kahi sok nivaaro ।
Taahi samay hanuman mahaprabhu, Jaay mahaa rajneechar maaro ।
Chaahat seeya asoka so aagi su, dai prabhu mudrika soka nivaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tihaaro ॥4॥

Baan lagyo ur lakshiman ke tab, praan taje sut raavan maaro ।
Lai griha baidya sushen samet, tabai giri dron su beer upaaro ।
Aani sajeewan hath dayee taba lakshiman ke tum praan upaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tihaaro ॥5॥

Raavan yudh ajaan kiyo tab, naag ki phaas sabhi sir daaro ।
Sri Raghunath samet sabai dal, moh bhayo yah sankat bhaaro ।
Aani khagesh tabai hanumaan ju, bandhan kaati sutraas nivaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tiharo ॥6॥

Bandhu samet jabai ahiraavan, lai raghunath pataal sidhaaro ।
Devhi puji bhalee vidhi so bali, deu sabai mili mantra vichaaro ।
Jaay sahaay bhayo tab hi ahiraavan sainya samet sanhaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tihaaro ॥7॥

Kaaj kiye barh dewan kei tum, beer mahaaprabhu dekhi bichaaro ।
Kaun so sankat mohin gareeb ko, jo tumso nahin jaat hai taaro ।
Begi haro hanumaan mahaprabhu jo kuch sankat hoya hamaaro ।
Ko nahin jaanat hai jag mein kapi sankat mochan naam tiharo ॥8॥

॥ Doha ॥
Laal deh laalee lase, aru dhari laal langoor ।
Bajra deh daanavdalan, jai jai jai kapi soor ॥
- Nitin Pratap Singh
If you love this article please like, share or comment!
आरती: माँ महाकाली
जय काली माता, मा जय महा काली माँ।
रतबीजा वध कारिणी माता।
सुरनर मुनि ध्याता, माँ जय महा काली माँ॥...
आरती: माँ दुर्गा, माँ काली
अम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली।
तेरे ही गुण गाये भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती॥...
भजन: सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो।
सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो, चलो दर्शन पालो चल के।
करती मेहरबानीयाँ, करती मेहरबानियां॥
भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!
साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
भजन: चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।
भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥
भजन: माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ।
हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तार दे माँ।
मंत्र: माँ गायत्री
इस मंत्र का हिंदी में मतलब है - हे प्रभु, कृपा करके हमारी बुद्धि को उजाला प्रदान कीजिये और हमें धर्म का सही रास्ता दिखाईये। यह मंत्र सूर्य देवता के लिये प्रार्थना रूप से भी माना जाता है।
आरती: श्री पार्वती माँ
जय पार्वती माता, जय पार्वती माता, ब्रह्मा सनातन देवी, शुभ फल की दाता।
अरिकुल कंटक नासनि, निज सेवक त्राता, जगजननी जगदम्बा हरिहर गुण गाता।
जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!
Durga Puja one of the prominent religious and cultural festival of Delhi and near by states. Top famous Durgotsav destination of Delhi. You must visit, these top most famous Durga Puja pandals in Delhi/NCR
JhandewalanJhandewalan
By the inspiration of spiritual power Shri Badri Bhagat initiate a Mata temple on hill and also install a flag therefore called Jandewala Temple but actual name of the temple is झंडेवालान (Jhandewalan), near Jhandewalan metro station.
मसखरी - Maskhari
उड़ते उड़ते ख़बर आयी है कि विश्व के सभी देशों की यात्रा निपटाने के बाद मोदी जी चाँद पर भी जाएँगे l
Bachpan to Reebok
पढ़-लिख कर हमने कार खरीदी :(
और वो...
अनपढ़ रह कर भी पेड़ लगाने चल दिए!!
Kavi Vinod Pandey Ki Kalam - 2017
खा रहें हैं जो टमाटर आजकल,दायरे में टैक्स के वो आएँगे
पी रहे हैं जो टमाटर जूस उनके, घर पे छापे जल्द मारे जायेंगे...
घुरपेँच - Ghurpainch
Q: ऑफ़स मे आपका ईशान कोण किस दिशा मे है?
A: जिस दिशा मे आपके बॉस की सीट हो, वही आपकी उत्तम दिशा है ;)
दिल्ली एन.सी.आर. में भारी वर्षा
दिल्ली मे बारिश हुई नही और टीवी, इंटरनेट, मोबाइल और रोड नेटवर्क सब जाम से जाम छलकाते मिलेंगे :)
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था।...
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है।...
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
प्राण मुद्रा
बचपन से ही चश्मा का लगना, प्राणशक्ति को बढ़ाना और शारीर को निरोग रखना प्राण मुद्रा इसके लिए रामवाण का कम करती है..
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top