close this ads

Temple Celebrateing Cheti Chand / Jhulelal Jayanti in Delhi NCR

Temple Celebrateing Cheti Chand / Jhulelal Jayanti in Delhi NCR
List of Famous Temples Celebrating Cheti Chand / Jhulelal Jayanti in New Delhi, Noida, Ghaziabad and Gurugram:
1/5 Shri Jhulelal Mandir @Mote Wala Bagh, Shalimar Bagh New Delhi - 110088 Shri Jhulelal Mandir
श्री झूलेलाल मंदिर (Shri Jhulelal Mandir) a religious and cultural center of Sindhi Samaj in Shalimar Bagh. Most famous Shri Uderolal temple in Delhi, near Sarvodaya Kanya Vidyalaya, Mote Wala Bagh, Police Colony and Azadpur Fruit Market.
2/5 Shri Jhulelal Mandir @E2/27, Dr Bhim Rao Ambedkar Marg, Block E 2, Jhandewalan Extension, New Delhi - 110005 Shri Jhulelal Mandir
With the grace of jal devta Shri Varun Dev, Sindhu Samaj established श्री झूलेलाल मंदिर (Shri Jhulelal Mandir) dedicated to Aayolal Shri Jhulelal Ji, fifty meter away from Jhandewalan metro station.
3/5 Shri Jhulelal Mandir @Patel Rd, New Moti Nagar, New Delhi - 110015 Shri Jhulelal Mandir
श्री झूलेलाल मंदिर (Shri Jhulelal Mandir) dedicated to Shri Jhulelal Ji founded on 12 October 1967 near Moti Nagar metro station.
4/5 Shri Vaishno Devi Mandir @Gulabi Bagh, New Delhi - 110007 Shri Vaishno Devi Mandir
Center attraction of the temple is center main hall of Maa Kali dham on first floor with all nine form of Navdurga therefore called श्री वैष्णो देवी मंदिर (Shri Vaishno Devi Mandir).
5/5 Shiv Sai Mandir @Sector 18 Noida, Uttar Pradesh - 201301 Shiv Sai Mandir
शिव साईं मंदिर (Shiv Sai Mandir) founded by Shri kalicharan Ji in 1970, having old Shiv-Parvati temple at the center along with Sai Baba bhavan. Entry gate having good lights view with Shiv Kailash view at the end of beautiful fountain.
Shri Jhulelal Mandir @Shalimar Bagh, New Delhi - 110088

चेट्रीचंड्र - नव् विक्रम संवत 2074 [29 मार्च 2017]

बड़े हर्षो - उल्लास के साथ किया जा रहा हे। इस मौक़े पर सिंधी कलाम, सिंधी शैेज, झूलेलाल बाबा का स्तुतिगान सिंधी कलाकारों द्वारा किया जायेगा। आप सभी से निवेदन समय से पहुँच कर भगवान श्री झूलेलाल जी का शुभ आशीर्वाद प्राप्त करे।
कार्यक्रम :
बहराणा साहिब पूजा 6:00 साय
महाआरती 7:00 साय
पलव साहिब 8:00 रात्रि
भजन कीर्तन 9:00 रात्रि
भण्डारा साहिब 10:00 रात्रि

स्थान - झूलेलाल मंदिर शालीमार बाग़
If you love this article please like, share or comment!
विविध: आर्य समाज के नियम
ईश्वर सच्चिदानंदस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनंत, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, सर्वांतर्यामी, अजर, अमर, अभय, नित्य, पवित्र और सृष्टिकर्ता है, उसी की उपासना करने योग्य है।
प्रेरक कथा: नारायण नाम की महिमा!
संत जन आशीर्वाद देकर चले गए। समय बीता उसके पुत्र हुआ। नाम रखा नारायण। अजामिल अपने नारायण पुत्र में बहुत आशक्त था। अजामिल ने अपना सम्पूर्ण हृदय अपने बच्चे नारायण को सौंप दिया था।
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै।
श्री यशोदा का परम दुलारा, बाबा के अँखियन का तारा।...
भोग आरती: आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…
आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन…
भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल, रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन…
आरती: कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥
गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...
मंत्र: श्री विष्णुसहस्रनाम पाठ
भगवान श्री विष्णु के 1000 नाम! विष्णुसहस्रनाम का पाठ करने वाले व्यक्ति को यश, सुख, ऐश्वर्य, संपन्नता, सफलता, आरोग्य एवं सौभाग्य प्राप्त होता है, एवं मनोकामनाओं की पूर्ति होती है।
भजन: आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ..
आजा.. नंद के दुलारे हो..हो.., रोवे अकेली मीरा..आ..
भजन: श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम!
श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम, लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम
साँवरे की बंसी को बजने से काम, राधा का भी श्याम वोतो मीरा का भी श्याम
भजन: वो काला एक बांसुरी वाला..
वो काला एक बांसुरी वाला, सुध बिसरा गया मोरी रे।
माखन चोर वो नंदकिशोर जो, कर गयो मन की चोरी रे॥
भजन: प्रबल प्रेम के पाले पड़ के, प्रभु का नियम बदलते देखा।
प्रबल प्रेम के पाले पड़ के, प्रभु का नियम बदलते देखा।
अपना मान भले टल जाए, भक्त का मान न टलते देखा॥
Arya Samaj MandirArya Samaj Mandir
आर्य समाज मंदिर (Arya Samaj Mandir), punjabi Bagh is the center of vedic culture and Swami Dayanand Saraswati`s thoughts.
Bachpan to Reebok
पढ़-लिख कर हमने कार खरीदी :(
और वो...
अनपढ़ रह कर भी पेड़ लगाने चल दिए!!
मसखरी - Maskhari
चाइनीज सामानों का बहिष्कार तो बायें हाथ का खेल है,
कुछ देशभक्तों ने तो मिठाई तक खाना छोड़ दिया... क्योंकि वो चीनी से बना होता हैl
Kavi Vinod Pandey Ki Kalam - 2017
खा रहें हैं जो टमाटर आजकल,दायरे में टैक्स के वो आएँगे
पी रहे हैं जो टमाटर जूस उनके, घर पे छापे जल्द मारे जायेंगे...
घुरपेँच - Ghurpainch
Q: ऑफ़स मे आपका ईशान कोण किस दिशा मे है?
A: जिस दिशा मे आपके बॉस की सीट हो, वही आपकी उत्तम दिशा है ;)
दिल्ली एन.सी.आर. में भारी वर्षा
दिल्ली मे बारिश हुई नही और टीवी, इंटरनेट, मोबाइल और रोड नेटवर्क सब जाम से जाम छलकाते मिलेंगे :)
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है। सोने से बने पात्र में भोजन बनाने और करने से शरीर के आन्तरिक और बाहरी दोनों हिस्से कठोर, बलवान, ताकतवर और मजबूत बनते है और साथ साथ सोना आँखों की रौशनी बढ़ता है।
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था। प्राचीनकाल में हमारे ऋषि महापुरुष वर्षों ज्ञान मुद्रा में बैठ कर ध्यान किया करते थे जिस कारन उनका ज्ञान सर्वत्र पूजनीय है...
प्राण मुद्रा
बचपन से ही चश्मा का लगना, प्राणशक्ति को बढ़ाना और शारीर को निरोग रखना प्राण मुद्रा इसके लिए रामवाण का कम करती है..
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top