close this ads

Mahavir Jayanti

महावीर जयंती - Mahavir Jayanti
महावीर जयंती (Mahavir Jayanti) is celebrated on the occasion of 24th Jain Tirthankar Shri Mahavir Swami`s birth anniversary also called जन्म कल्याणक (Janma Kalyanak). They spread the message of peace, non-violence and public welfare.

He was born in the hindu month of Chaitra Sukla Triyodashi, BC 599 in royal family of Maharaja Sri Siddhartha and Mata Trishila Rani Devi, In village Kundagram, situated in Vaishali Bihar. In childhood, the name of Lord Mahavir Swamiji was Vardhamana. Read Mahavir Jayanti in Hindi

Read Also:
» महावीर जयंती पर प्रसिद्ध जैन मंदिर!
» णमोकार महामंत्र

Information

Dates
Past Dates
19 April 2016
Upcoming Event
9 April 2017
Futures Dates
29 March 2018
17 April 2019
6 April 2020
25 April 2021
Related Name
Mahavir Janma Kalyanak - महावीर जन्म कल्याणक
Frequency
Yearly / Annual
Duration
1 Days
Begins / Ends (Tithi)
Chaitra Sukla Triyodashi
Months
March / April
Reason
Birth Anniversary of Shri Mahavir Swami
Celebrations
Bhajan/Kirtan, Religious Rituals, Prayers in Jain Temple

Mahavir Jayanti in Hindi

हिन्दू और जैन पंचांग के अनुसार, जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर श्री महावीर स्वामी के जन्म-दिवस के अवसर पर महावीर जयंती मनाई जाती है। उन्होंने `अहिंसा परमोधर्म` के सिद्धांत और लोक कल्याण का मार्ग अपना कर विश्व को शांति का सन्देश दिया।

भगवान श्री महावीर स्वामी का जन्म ईसा से 599 वर्ष पूर्व चैत्र मास के शुक्ल पक्ष में त्रयोदशी तिथि को वैशाली स्थित के गांव कुंडग्राम बिहार में लिच्छिवी वंश राजपरिवार के महाराज श्री सिद्धार्थ और माता त्रिशिला रानी देवी के यहां हुआ था। बचपन में भगवान महावीर स्वामी का नाम वर्द्धमान था।
Shri Deshu Mata TempleShri Deshu Mata Temple
श्री देशु माता मंदिर (Shri Deshu Mata Temple) is in Kufri and it is on 3300 metres above the sea level. The road to Deshu mata temple is bifurcated from kufri on the way to Fagu.
प्रेरक कहानी: वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!
वाह! किशोरी जी आपके नाम की कैसी अनंत महिमा है!! मुझ पर इतनी कृपा की या खुद श्रीमद्भागवत से इतना प्रेम करती हो कि रोज़ मुझ से श्लोक सुनने मे तुमको भी आनंद आता है।
चालीसा: श्री बगलामुखी माता
सिर नवाइ बगलामुखी, लिखूं चालीसा आज॥
कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज॥
दिल्ली मे कहाँ करें माँ बगलामुखी की पूजा?
The Baglamukhi Jayanti puja can be done in morning or night. She is also known as Pitambara, everything should be yellow during puja.
दिल्ली मे कहाँ मनारहे? जगन्नाथ रथ यात्रा 25 जून 2017
बहु प्रतीक्षित जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव को दिल्ली वाले कहाँ-कहाँ माना रहे हैं। [रविवार, 25 जून 2017]
दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, गुरूग्राम और फरीदाबाद के प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर:
प्रेरक कहानी: सुकर्म का फल सूद सहित मिलता है।
इंसान यदि सुकर्म करे तो उसका फल सूद सहित मिलता है, और दुष्कर्म करे तो सूद सहित भोगना पड़ता है।
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top