close this ads

लू से बचाव ही उपाय है!

Q: हम सभी धूप में घूमते हैं फिर कुछ लोगो की ही धूप में जाने के कारण अचानक मृत्यु क्यों हो जाती है? लू लगने से मृत्यु क्यों होती है?

A:
» हमारे शरीर का तापमान हमेशा 37° डिग्री सेल्सियस होता है, इस तापमान पर ही हमारे शरीर के सभी अंग सही तरीके से काम कर पाते है।

» पसीने के रूप में पानी बाहर निकालकर शरीर 37° सेल्सियस टेम्प्रेचर मेंटेन रखता है, लगातार पसीना निकलते वक्त भी पानी पीते रहना अत्यंत जरुरी और आवश्यक है।

» पानी शरीर में इसके अलावा भी बहुत कार्य करता है, जिससे शरीर में पानी की कमी होने पर शरीर पसीने के रूप में पानी बाहर निकालना टालता है।( बंद कर देता है )

» जब बाहर का टेम्प्रेचर 45° डिग्री के पार हो जाता है और शरीर की कूलिंग व्यवस्था ठप्प हो जाती है, तब शरीर का तापमान 37° डिग्री से ऊपर पहुँचने लगता है।*

» शरीर का तापमान जब 42° सेल्सियस तक पहुँच जाता है तब रक्त गरम होने लगता है और रक्त मे उपस्थित प्रोटीन पकने लगता है ( जैसे उबलते पानी में अंडा पकता है )

» स्नायु कड़क होने लगते है इस दौरान सांस लेने के लिए जरुरी स्नायु भी काम करना बंद कर देते हैं।

» शरीर का पानी कम हो जाने से रक्त गाढ़ा होने लगता है, ब्लडप्रेशर low हो जाता है, महत्वपूर्ण अंग (विशेषतः ब्रेन ) तक ब्लड सप्लाई रुक जाती है।

» व्यक्ति कोमा में चला जाता है और उसके शरीर के एक- एक अंग कुछ ही क्षणों में काम करना बंद कर देते हैं, और उसकी मृत्यु हो जाती है।

» गर्मी के दिनों में ऐसे अनर्थ टालने के लिए लगातार थोडा थोडा पानी पीते रहना चाहिए, और हमारे शरीर का तापमान 37° मेन्टेन किस तरह रह पायेगा इस ओर ध्यान देना चाहिए।

» ये प्रभाव भूमध्य रेखा के ठीक ऊपर सूर्य चमकने के कारण पैदा होता है।

» जहां तक सम्भव हो ब्लड प्रेशर पर नजर रखें। किसी को भी हीट स्ट्रोक हो सकता है।

उपाय:
» किसी भी अवस्था मे कम से कम 3 ली. पानी जरूर पियें ।किडनी की बीमारी वाले प्रति दिन कम से कम 6 से 8 ली. पानी जरूर लें।
» तापमान 40 डिग्री के आस पास हो, कृपया 12 से 3 के बीच ज्यादा से ज्यादा घर, कमरे या ऑफिस के अंदर रहने का प्रयास करें। यह परिवर्तन शरीर मे निर्जलीकरण और सूर्यातप की स्थिति उत्पन्न कर देगा।
» ठंडे पानी से नहायें, हीट वेव कोई मजाक मे ना लें।
» दही / छाछ का प्रयोग अधिक करें। फल और सब्जियों को भोजन मे ज्यादा स्थान दें।
» एक बिना प्रयोग की हुई मोमबत्ती को कमरे से बाहर या खुले मे रखें, यदि मोमबत्ती पिघल जाती है तो ये गंभीर स्थिति है।
» शयन कक्ष और अन्य *कमरों मे 2 आधे पानी से भरे ऊपर से खुले पात्रों को रख कर कमरे की नमी बरकरार रखी जा सकती है*।
» अपने होठों और आँखों को नम रखने का प्रयत्न करें।
- npsin.in
If you love this article please like, share or comment!
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है।...
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
लू से बचाव ही उपाय है!
हम सभी धूप में घूमते हैं फिर कुछ लोगो की ही धूप में जाने के कारण अचानक मृत्यु क्यों हो जाती है? लू लगने से मृत्यु क्यों होती है?
कभी सोचा कि प्लेटलेट्स हमारे लिए इतनी क्यूँ महत्वपूर्ण है?
मेडिकल साइंस में सबसे ज्यादा प्रचलन में आने वाला शब्द है वो है प्लेटलेट्स (Platelets) ǀ जब कभी मरीज डेंगू और वायरल बुखार कि चपेट में कोई आता है तो डॉक्टर सबसे पहले आपकी प्लेटलेट्स की ही जांच के लिए ही बोलता है ǀ लेकिन कभी अपने सोचा?
भारतीय गाय और उनकी नेत्र ज्योति के लिए उपयोगता
गाय के शरीर पर प्रतिदिन 15-20 मिनट हाथ फेरने से B.P.भी ठीक होता है और नेत्र ज्योति भी बढ़ती है।...
जाने त्रिफला क्या है? और उसके प्रयोग
What is Trifla? and its uses: त्रिफला का अर्थ है तीन फल का मिश्रण। हरड़, बहेड़ा और आंवला ये तीन फल के मिश्रण को त्रिफला कहते हैं। जब ये तीन फल मिल कर जब त्रिफला बनता है इस को आयुर्वेद में एक रसायन के रूप में माना जाता है।...
Daily Useful Health Tips using Dohawali
पानी में गुड डालिए, बीत जाए जब रात! सुबह छानकर पीजिए, अच्छे हों हालात!!
धनिया की पत्ती मसल, बूंद नैन में डार! दुखती अँखियां ठीक हों, पल लागे दो-चार!!
दिमागी कमजोरी में फायदेमंद कुछ फल
आयुर्वेद की नजर से शंखपुष्पी स्मरणशक्ति को बढ़ाकर मानसिक रोगों व मानसिक दौर्बल्यता को नष्ट करती है। शंखपुष्पी का नाम इसके शंख आकृति के फूलों के कारण पड़ा है।...
मसखरी - Maskhari
उड़ते उड़ते ख़बर आयी है कि विश्व के सभी देशों की यात्रा निपटाने के बाद मोदी जी चाँद पर भी जाएँगे l
Bachpan to Reebok
पढ़-लिख कर हमने कार खरीदी :(
और वो...
अनपढ़ रह कर भी पेड़ लगाने चल दिए!!
Kavi Vinod Pandey Ki Kalam - 2017
खा रहें हैं जो टमाटर आजकल,दायरे में टैक्स के वो आएँगे
पी रहे हैं जो टमाटर जूस उनके, घर पे छापे जल्द मारे जायेंगे...
घुरपेँच - Ghurpainch
Q: ऑफ़स मे आपका ईशान कोण किस दिशा मे है?
A: जिस दिशा मे आपके बॉस की सीट हो, वही आपकी उत्तम दिशा है ;)
दिल्ली एन.सी.आर. में भारी वर्षा
दिल्ली मे बारिश हुई नही और टीवी, इंटरनेट, मोबाइल और रोड नेटवर्क सब जाम से जाम छलकाते मिलेंगे :)
भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!
साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
भजन: चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।
भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥
भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे...
बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे,
ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं।
भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में,
देख लो मेरे मन के नागिनें में।
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top