close this ads

Kalkaji Mandir Metro Station Delhi

About | Services & Route | Mandir Darshan
Kalkaji Mandir (कालकाजी मंदिर) is named due to nearest famous hindu Maa Kali temple Kalkaji. Few more famous temples Lotus Temple and ISKCON Temple also located under 1-2km.

Services & Route Informations

Parking
Canara Bank

Violet Line - बैंगनी लेन [Since: 3 October 2010]

Nehru Place | Elevated | Side Platform | Govind Puri

Near By Temples

Shri Kalkaji Mandir श्री कालकाजी मंदिर (Shri Kalkaji Mandir) dedicated to Maa Aadi Shakti (Maa Kali), near Kalkaji Mandir metro station, also called Jayanti Peetha or Manokamna Siddha Peetha. Manokamna literally means desire, Siddha means fulfillment, and `Peetha` means shrine.
श्री कालकाजी मंदिर (Shri Kalkaji Mandir) dedicated to Maa Aadi Shakti (Maa Kali), near Kalkaji Mandir metro station, also called Jayanti Peetha or Manokamna Siddha Peetha. Manokamna literally means desire, Siddha means fulfillment, and `Peetha` means shrine.
@ Ma Anandmayee Marg, NSIC Estate, Okhla Phase III, Kalkaji, Delhi 110019
Darshan Mukhi Shri Hanuman MandirDarshan Mukhi Shri Hanuman Mandir
Prachin Manokamna Siddh, Paschim Mukhi, Veer Roop, Chandan Dhari दर्शन मुखी श्री हनुमान मंदिर (Darshan Mukhi Shri Hanuman Mandir) in Shergarh fort near Chambal river.
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है। सोने से बने पात्र में भोजन बनाने और करने से शरीर के आन्तरिक और बाहरी दोनों हिस्से कठोर, बलवान, ताकतवर और मजबूत बनते है और साथ साथ सोना आँखों की रौशनी बढ़ता है।
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था। प्राचीनकाल में हमारे ऋषि महापुरुष वर्षों ज्ञान मुद्रा में बैठ कर ध्यान किया करते थे जिस कारन उनका ज्ञान सर्वत्र पूजनीय है...
प्राण मुद्रा
बचपन से ही चश्मा का लगना, प्राणशक्ति को बढ़ाना और शारीर को निरोग रखना प्राण मुद्रा इसके लिए रामवाण का कम करती है..
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top