close this ads
Next: Ganga Dussehra [4 June] | Gayatri Jayanti [5 June]

Ganesh Mandir

Updated: Aug 01, 2015 06:37 AM
About | Timing | Photo Gallery | Map
गणेश मंदिर (Ganesh Mandir) - Palika Kendra, Hanuman Road Area, Connaught Place, New Delhi - 110001
गणेश मंदिर (Ganesh Mandir) dedicated to Lord Shri Ganesh founded by V.Sankar Aiyar in 31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999), group of two temples Shiv Evam Shani Mandir along with Shri Ganesh Mandir, both temple share same wall and also interconnected. Boundaries of temples are not well define due to the closeness of both bhawan. Most of the time, when new devotees visit these temples unable to distinguish both the temple. These temples are near by famous Hanuman Temple in Connaught Place.

Information

Timing
5:00 AM - 12:00 PM, 4:00 PM - 9:30 PM
Dham
Shri Ganesh JI
Lord Shiv Family & Shivling
Shri Shani Maharaj
Sai Baba
Devi Maa
Shri Hanuman Ji
Navgrah Dham
Hawan Shala
Basic Services
Drinking Water, Prasad, Shoe Store
Founder
V.Sankar Aiyar
Founded
31 Oct 1952 (Renovated - 22 Apr 1999)
Address
Palika Kendra, Hanuman Road Area, Connaught Place, New Delhi - 110001
Photography
No (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)
Coordinates
28.6300686°N, 77.2153086°E
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan

Photo Gallery

Photo in Full View
Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir
Front view of Shiv Mandir and Ganesh Mandir

Ganesh Mandir on Map

http://www.npsin.in/mandir/Ganesh-Mandir-CP
Bhagwan Valmiki MandirBhagwan Valmiki Mandir
Swami Raghawanand Ji Maharaj from Delhi Udasin Ashram inaugurated भगवान वाल्मीकि मंदिर (Bhagwan Valmiki Mandir) on the occasion of Valmiki Jayanti in 2015. Valmiki temple is easily accessible from Rohini East metro station.
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top