close this ads
Next: Ganga Dussehra [4 June] | Gayatri Jayanti [5 June]

Shri Krishna Janmabhoomi

Updated: Jan 20, 2017 10:51 AM
About | Timing | Photo Gallery | Map
श्री कृष्ण जन्मभूमि (Shri Krishna Janmabhoomi) - Janam Bhumi Mathura, Uttar Pradesh - 281001
श्री कृष्ण जन्मभूमि (Shri Krishna Janmabhoomi) is birth place Lord Shri Krishna, a prison house of the king Kansa.

Key Highlights

» Electronic items, keys, weapons, remote, phone, cigarette, alcohol, electronic car keys are prohibited in temple.
» Cloak room facility available with the cost of Rs 2.

Timeline

Before 5000 AD

First build by Vajranabha grandson of Lord Shri Krishna.

Information

Timing
Summer : 5:00 AM – 9:00 PM
Winter : 6:00 AM – 8:00 PM
Popular Name
कृष्णा जन्मस्थान, केशव देव मंदिर, Krishna Janmasthan, Keshav Dev Temple
Mantra
Hare Krishna, Hare Krishna Krishna Krishna Hare Hare, Hare Rama, Hare Rama Rama Rama Hare Hare
Basic Services
Prasad, Drinking Water, Parking
Charitable Services
Gaushala
Organized By
Shri Krishna Janmasthan Seva Sansthan
How to Reach
Road: Mandi Ramdas Road / Daresi Road / NH2-Bhuteshwar Road >> Mathura Vrindavan Road (Near Deeg Gate Chouraha)
Nearest Railway: Kosi Kalan
Address
Janam Bhumi Mathura, Uttar Pradesh - 281001
Website
http://shrikrishnajanmasthan.net/
Photography
No (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)
Coordinates
27.504858°N, 77.669709°E
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan

Photo Gallery

Photo in Full View
Shri Krishna Janmabhoomi
Shri Krishna Janmabhoomi
Shri Krishna Janmabhoomi
Shri Krishna Janmabhoomi
Shri Krishna Janmabhoomi

Shri Krishna Janmabhoomi on Map

http://www.npsin.in/mandir/shri-krishna-janmabhoomi
Bhagwan Valmiki MandirBhagwan Valmiki Mandir
Swami Raghawanand Ji Maharaj from Delhi Udasin Ashram inaugurated भगवान वाल्मीकि मंदिर (Bhagwan Valmiki Mandir) on the occasion of Valmiki Jayanti in 2015. Valmiki temple is easily accessible from Rohini East metro station.
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top