close this ads
Next: Ganga Dussehra [4 June] | Gayatri Jayanti [5 June]

Tuyian Wala Mandir

Updated: Apr 15, 2015 10:08 AM
About | Timing | Photo Gallery | Map
टुईयाँ वाला मंदिर (Tuyian Wala Mandir) - Mela Wala Bagh Firozabad UP - 283135
टुईयाँ वाला मंदिर (Tuyian Wala Mandir) having Lord Shiv temple in Mela Wala Bagh, as per native people of Shikohabad ~200 years before a Shivling is originated by own. Therefore, the center focus on this reason of clam, serene, spirituality, warship and believed that Load Shiva reside in the temple, and a snake also roaming in the temple premises in the midnight. Most interesting thing of this temple is 108 name of Lord Shiv written on the temple.

There are four more temples Shri Ganesh Ji, Shri Hanuman Ji, Maa Durga Ji and Maa Gayatri Devi Ji in same premises.

Information

Timing
6:00 AM - 9:30 PM<
Address
Mela Wala Bagh Shikohabad, Firozabad UP - 283135
Photography
Yes (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)
Coordinates
27.1024653°N, 78.5885043°E
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan

Photo Gallery

Photo in Full View
Main Lord shiv temple with Shivling
Main Lord shiv temple with Shivling
Charan paduka of Baba Charandas Ji
Charan paduka of Baba Charandas Ji
Main entry gate of the temple
Main entry gate of the temple
Holy Peepal Vriksh inside temple premises
Holy Peepal Vriksh inside temple premises

Tuyian Wala Mandir on Map

http://www.npsin.in/mandir/tuyian-wala-mandir
Bhagwan Valmiki MandirBhagwan Valmiki Mandir
Swami Raghawanand Ji Maharaj from Delhi Udasin Ashram inaugurated भगवान वाल्मीकि मंदिर (Bhagwan Valmiki Mandir) on the occasion of Valmiki Jayanti in 2015. Valmiki temple is easily accessible from Rohini East metro station.
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top