close this ads

Place/nagla Khushhali

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!
साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार।
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।
भजन: चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।
ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।
भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।
जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥
भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे...
बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे,
ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं।
भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!
श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में,
देख लो मेरे मन के नागिनें में।
ज्ञान मुद्रा
भारतीय संस्कृति में सबसे ज्यादा ज्ञान मुद्रा को प्राथमिकता दी जाती है। जिस कारण ही हमारे पूर्वज और ऋषिओं को सर्वज्ञ ज्ञान था।...
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या लाभ और हानि?
कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है
सोना एक गर्म धातु है।...
सेल्फी लेना हो सकता है आपके लिए खतरनाक!!
Caused by overusing the muscles attached to your elbow and wrist. Taking too many photos of yourself can result in selfie elbow, latest injury related to tech equipment...
Yoga is India`s Gift to the World
Sadhguru speaks at the United Nations General Assembly on International Day of Yoga 2016, about yoga being India's gift to the world, and how it is a science of inner wellbeing.
प्राण मुद्रा
बचपन से ही चश्मा का लगना, प्राणशक्ति को बढ़ाना और शारीर को निरोग रखना प्राण मुद्रा इसके लिए रामवाण का कम करती है..
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top